हरप्रीत कौर ::























तुमसे बात करते - करते 


1.
तुमसे बात करते -करते
उतना नहीं जाना मैंने तुमको

तुमसे बात करते -करते
देखा दूर से मैंने यह शहर
उतना नहीं जान पाया शहर को भी

तुमसे बात करते -करते
देखा कई बार इंद्रधनुष
पकड़ नहीं पाया कोई भी रंग
किसी चित्र में उस तरह
नहीं भर पाया रंग


तुमसे बात करते-करते
मिला कुछ दोस्तों से

तुमसे बात करते-करते
कितना कुछ किया मैनें
और कर नहीं पाया कुछ भी..... .....


2.
तुमसे बात करते-करते
लग गयी आँख
तुमसे बात करते-करते
खुल भी गयी आँख

तुमसे बात करते-करते
सुलगा ली सिगरेट
तुमसे बात करते-करते
जल गया हाथ.......



3.
तुमसे बात करते-करते
देखी एक चिड़िया
एक पतंग
एक गौरेया
एक तितली

तुमसे बात करते-करते
देखी....
हवा में फैले डैनों -सी 
उड़ती हुई एक स्त्री

तुमसे बात करते-करते
सुनी मैंने कई भविष्यवाणियाँ
स्त्रियों के बारे में
जो गलत सिद्ध हुई


4.
तुमसे बात करते-करते
पैर पर रेत से बना लिया घर
देखो.......
तुमसे बात करते-करते
ढह भी गया घर


5.
'इस नदी का नाम जानती हो'......?
नहीं जानती होंगी
तुम्हारे शहर में नहीं बहती
ऐसी कोई भी नदी

तुमसे बात करते -करते
रोकती है नदी
बुलाने लगता है टापू

सामने आकर रुकने लगती है कश्तियाँ
पालों पर झूलने लगते है हाथ

एक बच्ची दिखने लगती है दूर से
डूबने लगता है सूरज
तुमसे बात करते -करते
जाने किस ग्रह की करने लगता हूं
परिक्रमा.

6.
गत बरसों 
यातनाएँ  ठिठकी रही बाहर
कविताएं होती रही विफल

अखबार पढ़े जाते रहे समय पर
देर रात जलती रही बत्ती

‘यह किसका घर है ‘?
पूछते रहे लोग
‘तुम अकेले हो इतने बड़े घर में‘?
देता रहा उत्तर

कितनी दूर चला आया मैं
तुमसे बात करते -करते


7.
आती रही रेलगाड़ियाँ
छूटते रहे शहर
नहीं मिली रास्ते में कोई स्त्री
नहीं मिला
सूनी छत पर
पतंग उड़ाता कोई बच्चा

चींटियाँ नहीं आई
रसोईघर में
बेतरतीब बिखरी पड़ी रही चीनी
कोई आता क्यों नहीं ?
कितना अकेला हो जाता हूँ मैं
तुमसे बात करते -करते

तुमसे बात करते -करते 



1.
तुमसे बात करते -करते
जलाई मैंने घर की सबसे बड़ी बत्ती
चढ़ा सीढ़ियाँ 
उतरा भी

तुमसे बात करते -करते
सबसे ज्यादा चला मैं
और भूल गया रास्ता


2.
नीले रंग को
सबसे ज्यादा देखा मैंने
तुम्हारे साथ.... .....
प्रेम शब्द को सुना सबसे ज्यादा
सबसे ज्यादा सूँघा चमेली को
सबसे ज्यादा खाए गुलाबजामुन
सबसे ज्यादा छुआ तुम्हें

तुमसे बात करते -करते
सब छलते रहे मुझे
शब्द,रंग,स्पर्श खुशबू

34 टिप्‍पणियां:

  1. नीले रंग को
    सबसे ज्यादा देखा मैंने
    तुम्हारे साथ.... .....
    प्रेम शब्द को सुना सबसे ज्यादा
    सबसे ज्यादा सूँघा चमेली को
    सबसे ज्यादा खाए गुलाबजामुन
    सबसे ज्यादा छुआ तुम्हें
    !!!!!!!!!!!!!!!!!
    लाजवाब !!!
    बधाई !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ---- हरप्रीत के लिए--

    (हरप्रीत ! आपके लिए -----
    तुमसे बात करते करते
    चाँद उतरा आँगन में
    सकुचाया हुआ
    शरमाया हुआ
    और चुपके से
    फैल गई चाँदनी
    अंधेरे के खिलाफ
    खिल गये फूल
    रातरानी के !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुमसे बात करते -करते
    सब छलते रहे मुझे
    शब्द,रंग,स्पर्श खुशबू

    अच्छा अनुभव है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. "तुमसे बात करते -करते
    सबसे ज्यादा चला मैं
    और भूल गया रास्ता"
    हरप्रीत की इस आर्द्र लहजे वाली काव्‍य-श्रृंखला में एक संघर्षशील स्‍त्री (बल्कि इन्‍सान) का बनता-बिखरता अन्‍तर्मन बोलता हैं और सो भी उन इन्‍द्रधनुषी और धूसर रंगों के सहमेल से बने जीवन-अनुभवों को आकार देते हुए। यह कितनी बड़ी सच्‍चाई से रूबरू होना है कि हम साथ चलते चलते कितना कुछ पा जाते हैं और कितना कुछ मूल्‍यवान खो भी देते हैं। सादे शब्‍दों में ऐसी व्‍यंजना ही ऐसी कविताओं को स्‍मरणीय बनाती हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि व्‍यापक अर्थ में ये प्रेम कविताएं ही हैं, लेकिन कितनी अलग।

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुमसे बात करते -करते
    सब छलते रहे मुझे
    शब्द,रंग,स्पर्श खुशबू
    अद्भुद ....अनूठे अंदाज़ में हुई आपसे बाते ,जो कहा नहीं,वो सुन गए..जो सुना वो जाना नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस कविता को पढ़कर ,
    आज फिर उस नदी की याद आई ,
    हर बार जिसमें उतर कर ,
    गले-गले डूबा ,
    और डर कर लौट आया !
    फिर सूरज मुझे छोड़
    अकेला ही चला गया ,
    रात का जंगल पार करने !

    उत्तर देंहटाएं
  7. तुमसे बात करते -करते
    देखा कई बार इंद्रधनुष
    पकड़ नहीं पाया कोई भी रंग
    किसी चित्र में उस तरह
    नहीं भर पाया रंग-----1

    नीले रंग को
    सबसे ज्यादा देखा मैंने
    तुम्हारे साथ.... .....
    प्रेम शब्द को सुना सबसे ज्यादा
    सबसे ज्यादा सूँघा चमेली को
    सबसे ज्यादा खाए गुलाबजामुन
    सबसे ज्यादा छुआ तुम्हें

    तुमसे बात करते -करते
    सब छलते रहे मुझे
    शब्द,रंग,स्पर्श खुशबू --2----सुन्दर मन की अभिव्यक्ति .....ढेर सारी शुभ कामनाएं हरप्रीत कौर जी को ....आप को भी धयवाद खुबसूरत अहसासों को शब्दों में ढला पेश करने का !!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. नीले रंग को
    सबसे ज्यादा देखा मैंने
    तुम्हारे साथ.... .....
    प्रेम शब्द को सुना सबसे ज्यादा
    सबसे ज्यादा सूँघा चमेली को
    सबसे ज्यादा खाए गुलाबजामुन
    सबसे ज्यादा छुआ तुम्हें

    तुमसे बात करते -करते
    सब छलते रहे मुझे
    शब्द,रंग,स्पर्श खुशबू

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. इन कविताओं का वक्ता पुरुष है, यह रोचक है, और साहित्य के मूल स्वभाव-परकाया प्रवेथ-का रेखांकन भी। बहुत कम शब्दों में बहुत मार्मिक बात कहती हैं ये कविताएं।
    "तुमसे बात करते करते सुनी मैने कई भविष्यवाणियां औरतो के बारे में जो गलत साबित हुईँ।"

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही अच्छे कविताएं !
    भाषा,शिल्प एवम प्रस्तुति बहुत प्रभावशाली !
    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही अच्छे कविताएं !
    भाषा,शिल्प एवम प्रस्तुति बहुत प्रभावशाली !
    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  13. विभिन्न भावों की सहज अभिव्यक्तिवहयाँ ! मन की कोमलता का स्पर्श ! परिवेश का जीवंत चित्रण. जीवन से जुड़े चित्र ! ---वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. विभिन्न भावों की सहज अभिव्यक्तियाँ ! मन की कोमलता का स्पर्श ! परिवेश का जीवंत चित्रण. जीवन से जुड़े चित्र ! ---वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  15. कवितायें अच्छी लगीं हरप्रीत…सहज लेकिन गहरे तक संप्रेषित होती हुईं…शुभकामनायें और बधाईयां…अपर्णा आपकी इस अनूठी कोशिश को सलाम! कोशिश कीजिये कि इन सभी प्रेम कविताओं का एक संकलन कहीं से आ जाये…

    उत्तर देंहटाएं
  16. गज़ब की प्रभावशाली अभिव्यक्ति...बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  17. गज़ब की प्रभावशाली अभिव्यक्ति|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  18. खूबसूरत भाव और प्रभावशाली

    उत्तर देंहटाएं
  19. Priya harpreet ji
    Satshri Aakal
    aapka sahitya srijan sundar laga , man ki gahrayiyon men samati huyi abhivakti sundar ban padi hai . achha prayas . shukriya.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत अच्छी कविताएं हैं हरप्रीत की, सहजता इनका प्राण है

    उत्तर देंहटाएं
  21. सभी कविताएं बहुत सुन्दर.....एक-एक शब्द भावपूर्ण ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. तुमसे बात करते करते रोज थोडा थोडा जी लेता हूँ मै...........
    प्यार कितना अद्भुत है ...कितना कोमल.....कितना स्वच्छ .......मन में कितना कुछ भर देता है......अपनी खुश्बुओ संग........
    शानदार कविताएं .

    उत्तर देंहटाएं
  23. कितना वक्‍त गुजर गया....पता ही न चला...तुमसे बात करते करते...वक्‍त को तुम्‍हारा स्‍पर्श याद होगा जरूर...तभी तो इसमें गंध भी वही है...छल तो साथ साथ आए था परागकणों के...तुम्‍हारे हाथों ने उसे छुआ होगा तो चिपक गए होंगे पराग....वरना वो तो खुशबू थी बस...

    उत्तर देंहटाएं
  24. तुम्हारे एहसास का डोर थामे
    चलता रहा कदम-दर-कदम
    मुझे लगा की साथ तुम हो
    मुड़कर देखा तो राह में तनहा था मैं .

    उत्तर देंहटाएं
  25. तुमसे बात करते-करते
    रोकती है नदी
    बुलाने लगता है टापू
    सामने आकर रुकने लगती है कश्तियाँ
    पालों पर झूलने लगते है हाथ

    एक बच्ची दिखने लगती है दूर से
    डूबने लगता है सूरज
    तुमसे बात करते-करते
    -- वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बात करते-करते कविता हो जाना ही तो सशक्त अभिव्यक्ति है...ऐसे में
    शैली-भाषा-शिल्प...इन्हें तो स्वतः ही सशक्त होना पड़ता है...सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  27. behtareen nazm harpreet sahiba kayi baar aapse raabita qaayam karne kikoshish ki magar baat nahi ho payi kaise mizaaj hain aapke maine aapko majmua bhi pesh kiya tha aapko mila ya nahin lalit ji ko post kiya tha maine apna majmua
    jawab ke intizar main
    zaheen

    उत्तर देंहटाएं
  28. कुछ लोग जीते जी इतिहास रच जाते हैं कुछ लोग मर कर इतिहास बनाते हैं और कुछ लोग जीते जी मार दिये जाते हैं फिर इतिहास खुद उनसे बनता हैं बहुत मार्मिक रचना..बहुत सुन्दर...नवरात्रा की आप को शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  29. अच्छी कविताएं हैं हरप्रीत की। पढ़वाने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं